2024 में फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर कैसे बनें

2024 में फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग

2024 में फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर कैसे बनें
2024 में फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर कैसे बनें

न्यूनतम प्रयास, अधिकतम लाभ

2024 में करियर बनाने के लिए यह नई नीति है। इंसान की इस इच्छा को पूरा करने के लिए “फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग” सबसे अच्छा तरीका है।

लचीलेपन, स्वतंत्रता, वित्तीय स्वतंत्रता और समय की बचत के लिए, पारंपरिक 9 से 5 की नौकरियां अब एक सफल करियर का एकमात्र रास्ता नहीं हैं। आप दुनिया के किसी भी कोने से सिर्फ एक डिजिटल डिवाइस, और इंटरनेट की मदद से अपना काम कर सकते हैं, वह भी अपने मनचाहे समय पर।

इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए आपको पहले यह जानना चाहिए कि 2024 में डिजिटल मार्केटिंग में करियर कितना अच्छा है।

फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग एक स्व-रोज़गार करियर विकल्प है। व्यक्ति और पेशेवर, प्रोजेक्ट-दर-प्रोजेक्ट या अनुबंध के आधार पर ऑनलाइन मार्केटिंग के अपने कौशल और सेवाएं प्रदान करते हैं। वे स्वतंत्र रूप से काम करते हैं और एसईओ, कंटेंट मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग, पीपीसी विज्ञापन आदि जैसी डिजिटल मार्केटिंग रणनीतियों को बनाने और निष्पादित करने के लिए विभिन्न ग्राहकों या व्यवसायों के साथ सहयोग कर सकते हैं। फ्रीलांसर आम तौर पर अपनी दरें स्वयं निर्धारित करते हैं, अपने स्वयं के ग्राहकों का प्रबंधन करते हैं, और दूर से या विभिन्न स्थानों से काम करने की लचीलापन रखते हैं।

फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग कैसे शुरू करें?

Freelance digital marketing kya hai

सबसे पहले तो यह जान लें की फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग क्यों करें? आखिर यह एक बेहतर करियर ऑप्शन क्यों है?

इंटरनेट और ऑनलाइन दुनिया के आगमन के बाद, लोग पारंपरिक मार्केटिंग के बजाय डिजिटल मार्केटिंग की ओर बढ़ने लगे। क्योंकि डिजिटल मार्केटिंग सस्ती भी है और ज्यादा फायदेमंद भी।

इसके अलावा, यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे आप कहीं से भी, कभी भी, कर सकते हैं। आपको किसी भी व्यवसाय के कार्यालय में उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है। इस सुविधा ने फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग की नींव रखी।

लेकिन इतनी बड़ी डिजिटल मार्केटिंग इंडस्ट्री में, और जहां इतनी प्रतिस्पर्धा है, वहां फ्रीलांसिंग मे सफलता के लिए एक निश्चित रास्ता बनाकर आगे बढ़ना होगा। इसीलिए यहां हम आपको स्टेप-बाई-स्टेप बताने जा रहे हैं कि फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग कैसे करें

1. डिजिटल मार्केटिंग सीखें

फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग में सफलता पाने के लिए आपके पास डिजिटल मार्केटिंग में विशेषज्ञता होनी चाहिए

वे दिन गए, जब आप थोड़े से कौशल के साथ डिजिटल मार्केटिंग कर सकते थे। अब प्रतिस्पर्धा बहुत बढ़ गया है। ऊपर से एआई आ चुका है। यह डिजिटल मार्केटिंग के कई काम चुटकियों में कर रहा है।

ऐसे में, जब आपका काम उच्च स्तर का होगा, तभी आप फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग के जरिए पैसा कमा सकते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग में SEO, कंटेंट राइटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग, गूगल विज्ञापन जैसी कई श्रेणियां हैं। यदि आप सभी में दक्षता हासिल कर सकें तो यह सोने पर सुहागा होगा।

अन्यथा, यदि आप फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग में एक सफल करियर बनाना चाहते हैं तो आपको इनमें से कम से कम एक में कुशल होना चाहिए।

2. एक पोर्टफोलियो बनाएं

जो दिखता है, वो बिकता है

आपने डिजिटल मार्केटिंग कौशल हासिल कर लिया है। बहुत अच्छा! लेकिन अब आपको ये बात ऑनलाइन मार्केट में साबित करना होगा। इसके लिए आपको एक पोर्टफोलियो की जरूरत है।

यदि आपके पास अच्छा पोर्टफोलियो नहीं है, तो फ्रीलांसिंग मुश्किल हो सकती है।पोर्टफोलियो क्या है और एक अच्छा पोर्टफोलियो कैसे बनाएं, जानने के लिए आप यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं।

और अगर आपके पास अच्छा पोर्टफोलियो नहीं है, तो अपना खुद का एक ब्लॉग या वेबसाइट बनाएं। इसके जरिए आप अपनी डिजिटल मार्केटिंग स्किल्स को पूरी दुनिया के सामने साबित कर सकते हैं।

परिणामस्वरूप, आपको फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग में एक सफल करियर बनाने से कोई नहीं रोक सकता।

3. एक आला(Niche) चुने

  • डिजिटल मार्केटिंग कौशल विकास – (पूर्ण)
  • पोर्टफोलियो – (पूर्ण)

अब अगला कदम एक “आला” का चयन करना है।

सही आला(niche) चुनने का मतलब है आधी लड़ाई जीतना। यह संभव है कि किसी विशेष डिजिटल मार्केटिंग रणनीति को भोजन और यात्रा क्षेत्र के लिए समान परिणाम न मिलें। आप सोना और किराने का सामान एक ही तरह से नहीं बेच सकते।

अपने कौशल, अनुभव, रुचियों, संभावनाओं और क्षमताओं के आधार पर सही आला(niche) चुनें, जहां आप अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल कर सकें।

उदाहरण के लिए मेरे विषय हैं – “डिजिटल मार्केटिंग” और “Indian Cuisine“।

नोट: अपने विषय के लिए विशिष्ट बनें। आज प्रतिस्पर्धा बहुत अधिक है। इसीलिए, आप जितने अधिक विशिष्ट होंगे, आपके लिए फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाना उतना ही आसान होगा।

4. एक फ्रीलांसिंग प्लेटफ़ॉर्म चुनें

अगला है – एक फ्रीलांसिंग प्लेटफॉर्म चुनना।

फ्रीलांसिंग प्लेटफ़ॉर्म वे स्थान हैं जो ऑनलाइन सेवाओं की खरीद और बिक्री की सुविधा प्रदान करते हैं। जैसे कि फाइवर, अपवर्क, फ्रीलांसर, पीपुलपरआवर, गुरु आदि फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग के लिए बेहद अच्छे हैं। अपनी पसंद के अनुसार चयन करें।

प्रत्येक प्लेटफ़ॉर्म की अपनी प्रणाली और नीतियां होती हैं। कुछ में आपको एक कार्यक्रम बनाना होता है, कुछ में आपको एक प्रस्ताव प्रस्तुत करना होता है। बीच में, फ्रीलांसिंग प्लेटफॉर्म यह सुनिश्चित करते हैं कि कोई किसी को धोखा न दे सके।

इसके अलावा आप फेसबुक, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन आदि के जरिए भी क्लाइंट ढूंढ सकते हैं। लेकिन यह थोड़ा मुश्किल काम है। ऊपर से धोखाधड़ी की संभावना भी अधिक रहती है।

एक बार जब आप अपनी ब्रांडिंग अच्छे से कर लेंगे, तो आपको ग्राहक मिलने में कोई परेशानी नहीं होगी। लोग डिजिटल मार्केटिंग सेवाओं के लिए आपके पास खुद आएंगे।

टिप: केवल एक फ्रीलांसिंग प्लेटफॉर्म पर निर्भर न रहें। विभिन्न फ्रीलांसिंग वेबसाइटों पर खाते बनाकर ग्राहक खोजने का प्रयास करें। अपने पोर्टफोलियो और खाते को इतना आकर्षक बनाएं कि लोग प्रभावित होकर आपकी सेवाएं खरीदें। लेकिन याद रखें, केवल वही लिखें जो आप वास्तव में कर सकते हैं। लोगों को आकर्षित करने के लिए कभी भी किसी भी तरह के झूठ का सहारा न लें। नहीं तो एक बार तो आपको कस्टमर मिल जाएगा, लेकिन उसके बाद, फ्रीलांसिंग डिजिटल मार्केटिंग इंडस्ट्री में आपका नाम खराब हो जाएगा। और फिर कोई भी आपको काम देने से हिचकिचाएगा।

5. फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग के लिए नेटवर्किंग

नेटवर्किंग भी बहुत जरूरी है।

इसके लिए हर सोशल मीडिया पर आपकी मौजूदगी जरूरी है। साथ ही, अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी वेबसाइट और पेज बनाना भी काफी फायदेमंद रहेगा। अपने जैसे अन्य फ्रीलांसरों से जुड़ें, अच्छे संबंध बनाएं।

अपने ग्राहकों को सोशल मीडिया पर आपसे जुड़ने के लिए आमंत्रित करें। इससे लोगों को अपना नियमित ग्राहक बनाने की संभावना बढ़ जाएगी।

इसके साथ ही, ईमेल मार्केटिंग के जरिए आप अपने ग्राहकों को अच्छे ऑफर देकर उन्हें अधिक सेवाएं और उत्पाद खरीदने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

6. गुणवत्तापूर्ण सेवाएँ

आपने डिजिटल मार्केटिंग कौशल सीखा, अपना पोर्टफोलियो बनाया, आला चुना, फ्रीलांसिंग प्लेटफॉर्म पर अकाउंट बनाए, नेटवर्किंग की, अब जैसे ही आपको अपना पहला ग्राहक मिलता है, आपको अपनी सर्वश्रेष्ठ सेवा प्रदान करनी होगी।

हमेशा याद रखें, आपका फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग करियर आपके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता पर निर्भर करता है। आपको एक फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर के रूप में, आपको ग्राहकों की आवश्यकता के आधार पर कई तरह के काम करने पड़ सकते हैं। उनकी अपेक्षा से अधिक दें। अगर ग्राहक संतुष्ट हैं, तो आप सोच भी नहीं सकते कि आप इस करियर से कितना पैसा कमा सकते हैं।

एक फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर क्या काम करता है?

एक फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर के रूप में, आपको ग्राहकों की आवश्यकता के आधार पर कई तरह के काम करने पड़ सकते हैं। लेकिन मूलतः सभी कार्य इन्हीं श्रेणियों में आते हैं:

विषयवस्तु का व्यापार (Content marketing)

कंटेंट मार्केटिंग में आपको कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग, ब्लॉग पोस्ट, आर्टिकल राइटिंग, डिस्क्रिप्शन राइटिंग के जरिए अपने क्लाइंट्स के लिए मार्केटिंग करनी होती है।

सामग्री रणनीति (Content strategy)

सामग्री रणनीति में, आपको योजना बनानी होगी और सामग्री को इस तरह से साझा करना होगा जिससे ब्रांड को अपने लक्ष्य हासिल करने में मदद मिले। यह तय करने जैसा है कि क्या कहना है, कैसे कहना है और लोगों से जुड़ने के लिए इसे कहां साझा करना है।

प्रूफ रीडिंग

प्रूफ़ रीडिंग में आपको लिखित सामग्री को दोबारा जांचना होगा। यह देखना होगा कि कहीं कोई व्याकरण संबंधी भूल, लेखन संबंधी त्रुटि तो नहीं है, या जो लिखा गया है वह सही है या गलत। और अगर क्लाइंट इसे सही करने के लिए कहता है, तो आपको इसे सही भी करना होगा।

एसईओ (खोज इंजन अनुकूलन)

एसईओ(SEO) में आपको क्लाइंट के कंटेंट, ब्लॉग, वेबसाइट आदि को इस तरह से व्यवस्थित करना होता है, ताकि वह Google के सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERP) पर पहले स्थान पर आ सके।

वैसे तो SEO कई प्रकार के होते हैं, लेकिन ये तीन मुख्य हैं –

  • ऑन-पेज एसईओ
  • ऑफ-पेज एसईओ
  • तकनीकी एसईओ

एसएमएम (सोशल मीडिया मार्केटिंग)

एसएमएम में, आपको अपने ग्राहक के व्यवसाय को सोशल मीडिया पर दिखने और ग्राहकों के साथ जुड़ने में मदद करनी होगी। आपको –

  • सामग्री बनाना होता है (फोटो/वीडियो/लेखन)
  • नियमित पोस्ट करना होता है
  • लोगों से बातचीत करना होता है
  • प्रदर्शन ट्रैक करना होता है
  • विज्ञापन चलाना होता है
  • प्रभावशाली लोगों के साथ काम करना होता है
  • आधुनिक जानकारी से परिपूर्ण रहना होता है
  • प्रतिष्ठा का प्राबंधन करना होता है
  • परिणाम रिपोर्ट करना होता है

पीपीसी विज्ञापन

आपको अपने ग्राहकों के लिए उनके द्वारा दिए गए बजट में रणनीतिक रूप से भुगतान-प्रति-क्लिक विज्ञापन इस तरह चलाने होंगे ताकि उनके वांछित लक्ष्य प्राप्त किए जा सकें। इसके लिए आपको करना होगा-

  • कीवर्ड चयन
  • विज्ञापन अभियान सेटअप
  • सम्मोहक विज्ञापन लिखन
  • बजट बनाए रखें
  • बोलियाँ समायोजित करें
  • विज्ञापनों के साथ प्रयोग करें
  • परिणाम ट्रैक करें
  • प्रदर्शन पर रिपोर्ट
  • बाजार अनुसंधान

आपको ग्राहक के अनुरोध के अनुसार बाजार अनुसंधान करना होगा। इसमें उद्योग के रुझानों की गहन जांच करना, लक्षित दर्शकों और बाजार प्रतिस्पर्धा का विश्लेषण करना होता है।

ईमेल व्यापार

ईमेल मार्केटिंग में आपको अपने ग्राहकों के लिए ईमेल अभियान चलाना होगा। बेहतर मूल्य प्रदान करके अपने सब्सक्राइबरों को, ग्राहकों में परिवर्तित करना है।

इसी तरह एक फ्रीलांस डिजिटल मार्केटर को कई अन्य कार्य भी करने पड़ सकते हैं। जैसे स्थानीय एसईओ, सहबद्ध विपणन, सामुदाय गठन(community building), वेबसाइट निर्माण आदि।

निष्कर्ष

आज जहां लोगों को समय तथा नौकरियों की कमी है, वहां फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग के जरिए अपना कैरियर बनाना एक बहुत अच्छा विकल्प है। यह काम करने वाले, और काम देने वाले, दोनों के लिए लाभदायक होता है। आप जब चाहे, जहां से चाहे काम कर सकते हैं। बस आपको चाहिए इंटरनेट और एक डिवाइस। महत्वपूर्ण यह है कि आप में डिजिटल मार्केटिंग की दक्षता होनी चाहिए। साथ-थी-साथ, यह इंडस्ट्री बहुत ही तेजी से परिवर्तित होता रहता है, तो आपको नियमित रूप से अपडेट रहना होगा। इस लेख के माध्यम से हमने फ्रीलांस डिजिटल मार्केटिंग में अपना करियर बनाने का संपूर्ण जानकारी दे दिया है। यद्यपि अगर आपको कोई मदद चाहिए, तो आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।

Similar Posts